सरकारी कार्य हो या निजी, लाखों की लागत से बनी सडक़ों को तोड़ा, मिट्टी डाल इतिश्री कर निकल गए

  • last month
-जल कनेक्शन लेना हो या फिर पेयजल लाइन लीकेज की जांच करनी हो, बिना अनुमति एवं संबंधित विभाग की जानकारी के बिना तोड़ दी जाती हैं सडक़े

Recommended